परिणय निर्णय वैवाहिक विसंगतियों ज्योतिषीय संदर्भ - मृदुला त्रिवेदी & टी.पि.त्रिवेदी

कृति को अग्रांकित पाँच अध्यायों में विभाजित व्याख्यायित कीया गया है -

1. विवाह विच्छेद: काल परिज्ञान;
2. वैधव्य का करुण कन्दन:ग्रहो का स्पन्दन;
3. व्रत विधान : वैवाहिक विघटन. वैधव्य एव विच्छेद का सुगंध समाधान;
4. पारवती मंगल स्त्रोत, तथा
5. वांछा कल्पलता स्त्रोत।