The Rozabal Line (Hindi Edition) by Ashwin Sanghi

रोज़ाबाल वंशावली

लंदन की लाइब्रेरी में, किताबों की अलमारी में एक लड़की का बक्सा मिलता है। जब घबराई हुई लाइब्रेरियन उसे खोलकर देखती है, तो बेहोश होकर फर्श पर गिरने से पहले, उसके मुह से बस एक चीख निकलती है। वैटिकन के एक पेचीदा गुप्त स्थान पर, एक कातिल हसीना कसम खाती है की वह अपने मत के विरोधियो का खात्मा कर डालेगी। लश्कर -ए -सलासता-अशर सभय दिखने वाले तेरह आंतकियो का समूह है, जिसकी जड़े दुनिया भर में फैलि हैं। इनकी तकदीर यीशु के बारह अनुयायियों की नियति से जुडी है। उनका मकसद ही विश्वयुद्ध है।

एक हिन्दू ज्योतिषशास्त्री ने ग्रह नक्षत्रो की गणना में पाया की दुनिया का अंत अब नजदीक है। तिब्बत में,बौद्धों का एक समूह पुनजन्म के निशान ढूढ़ रहा था,कुछ उसी तरह जैसे उनके पूर्वजों ने कभी जुडिया में संन ऑफ़ गॉड की तलाश की थी। उधर कश्मीर में रोजाबाल नाम के एक मकबरे में येरुशलम से जुड़े सवालो का जवाब मौजुद है, जिसके तार हमें वैष्णो देवी तक ले जाती है। एक अमेरिकन पादरी अपने परिचितों को एक विज़न में किसी दूसरे ही रूप व् काल में देखता है। वह पूर्वजन्म प्रत्यागत के माध्यम से अतीत में जाकर उन बिबो को पूरा करता है,और उसी खोज में भारत तक भी पहुचता है,लेकिन एक गुप्त ईसाई संगठन,क्रक्स देकुसता पमुर्ता, को यह बिलकुल नहीं भाता।
आखिर ऐसा कोनसा राज है, जिसे वे बाहर नहीं आने देना चाहते है ?