Books For You

Grow outward, Grow inward

Apreshit Patra (Gujarati Translation of Unposted Letter) by Mahatria Ra

અપ્રેષિત પત્ર - મહાત્રયા રા

સફળતા મોટી વસ્તુઓમાં છે.

આનંદ નાની વસ્તુઓમાં છે.

ધ્યાન શૂન્યમાં છે.

ઈશ્વર સર્વસ્વમાં છે.

તે જીવન છે.



आप्रेषित पत्र - टी टी रंगराजन

जिंदगी के बहुत सारे फलसफो को अपने में समेटे यह किताब मन की शांति पाने, परिवार में प्यार बढ़ाने और तरक्की करने के तरीके बताती है। इसमें रोजमर्रा की जिदगी के उदाहरण देते हुए खुशी, सफलता, ध्यान, ईश्र्वर जैसे विषयों के बारे में एक नई और सुलझी हुई सोच जाहिर की गई है।



Tag cloud

Sign in