Shadbal Rahasya (Grah Bal Bhav Bal Dasha Phal Sahit) By Krushna Kumar

षडबल रहस्य - कृष्ण कुमार


ज्योतिष का मुखय उदेशय जातक की शक्ति व् दुर्बलताओं का आकलन करते हुए संभावित अनिष्ट से उसकी रक्षा करना है। ज्योतिषगण भलीभाँति जानते हैं की सभी गृह अपने बल के अनुरूप ही अपनी दशा या भुकित में शुभ या अशुभ परिणाम दिया करते है। अंतः सही फल कथन के लिए गृह का बल तथा बालका स्त्रोत जानना आवशयक है। प्राचीन विद्वान मनीषियों ने गृह बल के छ:स्त्रोत मने है जिन्हें षडबल कहा जाता है। ये निम्न प्रकार है।

1 स्थान बल

2 दिग्बल

3 कालबल

4 चेष्टा बल

5 नैसर्गिक बल

6 दर्गबल पुन: भाव-बल जानने के लिए भावेश गृह बल,ग्रहो की दॄष्टि से प्राप्त भाव-बल तथा भाव-दिग्बल का प्रयोग होता है।