Samarsiddha (Prem Peeda Aur Pratishodh Ki Gatha) by Sandeep Nayyar

Samarsiddha is a story of complex social dynamics in the land of enigmatic India in 8th century BC. In a patriarchal society ruled by the king and his men, a woman, exploited and shattered, rises from the ground to counter not only the men and the society but also the underlying ailing ideology. Read how she devoted her life to spiritual practices to gain divine powers to counter the mighty kingdoms. Find out how her razor sharp goal of revenge carries her from being a beautiful Brahmin girl to a Chandaal warrior with bloodthirsty soul.

संदीप नय्यर प्रशिक्षण से मैकेनिकल इंजीनियर हैं, पेशे से एक आईटी विशेषज्ञ और अपनी पसंद से एक लेखक. 1969 में रायपुर में जन्मे नय्यर ने कुछ वर्ष एक पत्रकार के रूप में भी गुजारे हैं और साप्ताहिक हिंदुस्तान में वे एक नियमित स्तंभ लिखते रहे थे. रिलायंस और रायपुर अलॉइज के साथ काम कर चुके नय्यर 2000 में ब्रिटेन चले गए और अब वे एक ब्रिटिश नागरिक हैं. यह उनका पहला उपन्यास है.