Books For You

Grow outward, Grow inward

Goswami Tulsidas Krut Shri Ramcharitmanas Ramayan (Hindi Edition) by Goswami Tulsidas

तुलसीकृत ‘रामचरितमानस’ भारतीयों के गले का हार है, आदर्श व अनुकरणीय है। रामचरितमानस में स्थापित आदर्शों का अनुसरण होता है। रामचरितमानस के धीरोदात्त नायक राम का जीवन तो भारतीयों के लिए एक आदर्श जीवन है। वे एक आदर्श मित्र, आदर्श भाई, आदर्श पुत्र, आदर्श शिष्य, आदर्श प्रजापालक एवं आदर्श राजा थे। उनके द्वारा स्थापित रामराज्य आज भी भारत का राष्‍ट्रीय लक्ष्य है, जिसे हमें प्राप्‍त करना है।

‘रामचरितमानस’ विश्‍व का सर्वश्रेष्‍ठ महाकाव्य ही नहीं है, यह व्यक्‍ति के लिए एक आचरण-संहिता भी है, जिसके प्रत्येक पृष्‍ठ पर जीवन-निर्माण के सूत्र सुसज्जित हैं। आजकल के पाठक को सरल रूप से पढ़ने और आसानी से समझने के लिए इसे नाट्य रूप में प्रस्तुत किया गया है।

पृष्‍ठभूमि को यथारूप में रखने के लिए एक नए पात्र ‘रमायणी’ की अवधारणा की गई है, जो रामलीला के मंचन के समय अनिवार्य रूप से उपस्थित रहता है।

आशा है, यह कृति दृश्य एवं श्रव्य प्रसार माध्यमों द्वारा जन-जन तक पहुँचेगी तथा असंख्य लोग इस कृति से अनमोल मोती ग्रहण करके अपने जीवन को सफल बनाकर समाज को समुन्नत करने में अपना योगदान देंगे।



RAMAYAN MANAVTANU MAHAKAVYA - GUNVANT SHAH

રામ માનવતાના વિવેક-ચૂડામણિ છે. સીતા માનવતાની વમલિ વેદના છે. લક્ષ્મણ માનવતાનો પુણ્યપ્રકોપ (મન્યુ) છે. ભરત માનવતાનો તપોનધિ છે. હનુમાન માનવતાનો પ્રાણમય કોશ છે. રાવણ માનવતા સામેનું આસુરી આહ્‍વાન છે. રામાયણ માનવતાનું મહાકાવ્ય છે. જ્યાં સુધી પૃથ્વી પર માનવતા જીવતી રહેશે ત્યાં સુધી રામકથા વંચાતી-ગવાતી-ભજવાતી રહેશે. -- ગુણવંત શાહ



SAFALTA RAAH DIKHATI RAMAYAN - MORARI BAPU

सन्‌ 1960 से 2012- बावन वर्ष के इस अंतराल में 700 से भी अधिक रामकथाओं द्वारा मोरारी बापू ने विश्‍व के हर एक कोने में श्री राम के निर्मल नाम का दिव्यगान किया है। इस श्रंखला में युवावर्ग के लिए अत्यंत सरल भाषा में मोरारी बापू की रामकथाओं का दिव्यज्ञान प्रस्तुत है, जिससे आपको जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने की प्रेरणा मिलेगी।



Tag cloud

Sign in