Books For You

Grow outward, Grow inward

परिणय निर्णय वैवाहिक विसंगतियों ज्योतिषीय संदर्भ - मृदुला त्रिवेदी & टी.पि.त्रिवेदी

कृति को अग्रांकित पाँच अध्यायों में विभाजित व्याख्यायित कीया गया है -

1. विवाह विच्छेद: काल परिज्ञान;
2. वैधव्य का करुण कन्दन:ग्रहो का स्पन्दन;
3. व्रत विधान : वैवाहिक विघटन. वैधव्य एव विच्छेद का सुगंध समाधान;
4. पारवती मंगल स्त्रोत, तथा
5. वांछा कल्पलता स्त्रोत।



Parinay Nirnay Vivah Samay Sangyan By Mrudula Trivedi

 

परिणय निर्णय विवाह समय संज्ञान - मृदुला त्रिवेदी


परिज्ञान पक्ष :

1 ज्योतिष विज्ञानं एव विवाह में व्यवधान;
2 शास्त्रानुमोदित विवाह समय संज्ञान सूत्र;
3 विवाह काल निर्णय संदर्भित अनुसन्धान;
4 विवाह समय संज्ञान प्राविधि;
5 गोधर का शनि सुनिश्चित करता है, विवाह का समय;
6 विवाह काल निर्धारण में गोचर के मंगल एव शुक्र की भूमिका ;
7 प्रौढ़ावस्था में विवाह;
8 विवाह प्रतिबंधक योग का विस्तृत विवेचन;


परिहार पक्ष:

9 शीघ्र,सुखद एव अखंड वैवाहिक सुख हेतु आध्यात्मिक उपचार;
10 ग्रह शान्ति: विविध विधान;
11 कन्याओ के विवाह में अवरोध से रक्षार्थ अनुभूत मन्त्र प्रयोग;
12 कन्याओं के शीघ्र एवं सुखद विवाह हेतु स्त्रोत आराधना, एवं
13 पुरुषों के विवाह में व्याख्यान का समाधान।



Parinay Nirnay Vipul Vaivahik Sukh Ka Adhar Upyuk Parihar By Mrudula Trivedi

परिणय निर्णय विपुल वैवाहिक सुख का आधार उपयुक्त परिहार - मृदुला त्रिवेदी

कृति को विभिन्न वैवाहिक विसंगतियों के आधार पर अग्रांकित पांच अध्यायों मे व्याख्यायित विभाजित किया गया है :


1 परिहार परिज्ञान एवं मंत्र आराधना;

2 वैवाहिक विच्छेद एवं वैधवय से रक्षार्थ मंत्र उपासना;

3 वैवाहिक विसंगतियों के समाधान हेतु विविध स्त्रोत;

4 मंगली दोष के अमंगलकारी परिणाम हेतु परिहार विधान, तथा

5 व्रत का अनुसरण : वैवाहिक विसंगतियों का शमन।



Parinay Nirnay Mangali Yog Vividh Sanyog By Mrudula Trivedi

परिणय निर्णय मंगली योग:विविध संयोग - मृदुला त्रिवेदी


इस कृति को अग्रांकित 11 भिन्न-भिन्न अध्यायों में विभाजित एव व्याख्यायित कीया गया है -

1 मंगली योग : विविध संयोग

2 मंगली दोष पर सूर्य का प्रभाव:शोध संज्ञान

3 मंगली दोष पर चन्द्रमा का प्रभाव:शोध संज्ञान

4 मंगली दोष पर बुध का प्रभाव : शोध संज्ञान

5 मंगली दोष पर बृहस्पति का प्रभाव:शोध संज्ञान

6 मंगली दोष पर शुक्र का प्रभाव:शोध संज्ञान

7 मंगली दोष पर शनि का प्रभाव:शोध संज्ञान

8 मंगली दोष पर राहु का प्रभाव:शोध संज्ञान

9 मंगली दोष पर केतु का प्रभाव:शोध संज्ञान

10 महिलाओं हेतु अष्टम भावस्थ मंगल: अशुभ परिणाम

11 मंगली दोष से रक्षार्थ परिहार विधान।

श्रीमती मृदुला त्रिवेदी देश की प्रथम पंक्ति के ज्योतिषशास्त्र के अध्येताओं एवं शोधकर्ताओं में प्रशंसित एवं चर्चित है । उन्होंने ज्योतिष ज्ञान के असीम सागर के जटिल गर्भ में प्रतिष्ठित अनेक अनमोल रत्न अन्वेषित कर,उन्हें वर्तमान मानवीय संदर्भो के अनुरूप संस्कारित किया है ।



Parinay Nirnay Muhurt Mimasa By Mrudula Trivedi

श्रीमती मृदुला त्रिवेदी देश की प्रथम पंक्ति के ज्योतिषशास्त्र के अध्येताओं एवं शोधकर्ताओं में प्रशंसित एवं चर्चित है । उन्होंने ज्योतिष ज्ञान के असीम सागर के जटिल गर्भ में प्रतिष्ठित अनेक अनमोल रत्न अन्वेषित कर,उन्हें वर्तमान मानवीय संदर्भो के अनुरूप संस्कारित किया है ।



Parinay Nirnay Vivah Samay Sangyan By Mrudula Trivedi

 

श्रीमती मृदुला त्रिवेदी देश की प्रथम पंक्ति के ज्योतिषशास्त्र के अध्येताओं एवं शोधकर्ताओं में प्रशंसित एवं चर्चित है । उन्होंने ज्योतिष ज्ञान के असीम सागर के जटिल गर्भ में प्रतिष्ठित अनेक अनमोल रत्न अन्वेषित कर,उन्हें वर्तमान मानवीय संदर्भो के अनुरूप संस्कारित किया है ।



Tag cloud

Sign in