Graho Ka Rashifal Vichar by Krushna Kumar

ज्योतिष में होरा अथवा जातक का विशेष महत्व है। हमारे जीवन में घटने वाली घटनाए, शिक्षा, आजीविका, विवाह, संतान, सम्पदा, स्वास्थय सुख का विचार जन्म कुंडली से किया जाता है। ये बात विज्ञ पाठक भली-भांति जानते है।

इस पुस्तक में द्वादश ग्रहों (युरेनस, नेप्च्यून, प्लूटो सहित) का द्वादश राशियों में स्थिति, राशिस्थ ग्रह का भाव फल तथा राशिस्थ ग्रह पर अन्य ग्रहो की दृष्टि के फल पर विस्तृत रूप से विचार किया गया है। बहुधा जातक जन्म की तिथि तो जनता है किन्तु सही समय का ज्ञान न होने से लग्न निकालना तथा उसकी जन्म कुंडली बनाना असंभव प्राय जाता है। ऐसी परिस्थिति में ""ग्रह व राशि संबंध"" पर आधारित ये फलादेश सरल, सहज व उपयोगी होगा ऐसा मेरा विश्वास है।