Books For You

Grow outward, Grow inward

Krodh Se Chhutkara by Dr.Vijay Agrawal

क्रोध से छुटकारा - डॉ विजय अग्रवाल


ऐसा कोई भी नहीं होगा, जिसके पास क्रोध न हो। ऐसा भी कोई नहीं होगा, जो इसके होने से परेशान न हो। तो ऐसे में हम करें तो क्या करें?
फिïलहाल इसका एक उपाय यह हो सकता है कि आप इस पुस्तक को पढ़ें।पहले तो यह पुस्तक आपके लिए आपका आइना बनकर आपको आपके क्रोध के कारणों से परिचित कराएगी।


फिर यह पुस्तक आपके लिए एक टॉर्च बनकर आपका मार्ग-दर्शन करेगी कि आपको किन रास्तों पर कैसे-कैसे चलकर उस मंजिल तक पहुँचना है, जिस मंजिल का नाम है- ‘‘क्रोध से छुटकारा।’’
बस, इसी से सब कुछ बदल जाएगा। अभी तक आप जिसके काबू में थे, अब यह आपके काबू में आ जाएगा।



Student Aur Prem Ki Samajh by Dr.Vijay Agrawal

किसी भी तरह की ‘समझ’ आते ही जिंदगी में दो चमत्कार तुरंत हो जाते हैं-

-- पहला चमत्कार कि समस्या समस्या नहीं रह जाती।

-- दूसरा चमत्कार यह कि यही समस्या शक्ति बन जाती है।

जैसे ही आपमें ‘प्रेम की समझ’ पैदा होगी, आप पहली बार सच्चे प्रेम को महसूस करके सच्ची उड़ान भर सकेंगे। यह पुस्तक इसी उड़ान में आपकी मदद करेगी।
प्रेम के लगभग सभी रंगों एवं गहराई को पूरी खूबसूरती एवं रोचकता के साथ समेटे हुए गज़ब|



Tag cloud

Sign in