Books For You

Grow outward, Grow inward

WHAT TO SAY WHEN YOU TALK TO YOUR SELF (Telugu Translation) - Shad Helmstetter

Shad Helmsetter’s simple but profound techniques, based on an understanding of the processes of the human brain, have enabled thousands of people to get back in control of their lives. By learning how to talk to yourself in new ways, you will notice a dramatic improvement in all areas of your life. You will feel better and accomplish more. It will help you achieve more at work and at home, lose weight, overcome fears, stop smoking and become more confident.



बंगला की श्रेष्ठ कहानियाँ

बंगला साहित्य में कहानीकारों की एक विस्तृत परंपरा रही है। छोटी-छोटी कहानियों की रचना में बंगाल के कथा-साहित्यकारों ने जैसा चमत्कार दिखाया है, वह अन्यत्र दुर्लभ है। रविन्द्रनाथ टैगोर व् शरतचन्द्र चट्टोपाध्याय सरीखे लेखकों की कहानियाँ तो विश्व-भर में पढ़ी और सराही जाती रही हैं। इस पुस्तक में ऐसे ही विश्वप्रसिद्ध बंगला लेखकों की श्रेष्ठ कहानियों को संकलित किया गया है।



Vayuputrona Shapath (Gujarati Translation of The Oath of the Vayuputras) - Amish Tripathi
 
વાયુપુત્રોના શપથ - અમીશ

નાગવંશ પછીની કથા - શિવ કથન ભાગ ૩

બૂરાઈ સામે આવી ગઈ છે. હવે તો માત્ર પ્રભુ જ બુરાઈને રોકી શકે છે.

RELEASING ON 15 FEBRUARY, 2014

PRE-ORDER YOUR COPY NOW.



औरतें

'औरतें' एक ऎसे सहज, सामान्य, उच्च शिक्षित, स्वयं व्यापार करके धनी बने व्यक्ति की कहानी है जो झगड़ालू बीवी से तालाक हो जाने के बाद हर रात कामवासना की अपनी स्वभाविक इच्छा की पूर्ती के लिए एक के बाद एक अनेक स्त्रियों से सम्बन्ध स्थापित करता है। उसका मानना है कि कामेच्छा ही सच्चे प्यार की मूल आवश्यकता है, और इस उद्देश्य से वह समाचारपत्रों में विज्ञापन देकर अपने लिए संगिनियों की तलाश करता है।

85-वर्षीय लेखक खुशवन्त सिहं के अनुसार 'औरतें' उनके दिवास्वप्न हैं, उनकी कल्पनाएं हैं, जिन्हें उन्होंने कलमबद्ध कर दिया है। इस अदभुत रूप से पठनीय उपन्यास में प्यार, कामेच्छा और जीवन के यथार्थ का अभूतपूर्व सम्मिश्र है।



Pushpakunjno Mali (Gujarati Translation Of The Gardener)



दिव्‍य आभा मण्‍डल

प्राचीन ॠषि-मुनियों ने मनुष्‍य के शरीर में सात शक्ति-केंद्रों की उपस्थिति बताई है। इन शक्ति-केंद्रों से इन्‍द्रधनुषी सात रंग निकलते हैं। जो मनुष्‍य के शरीर पर एक दिव्‍य आभा-मण्‍डल का निर्माण करते हैं। इस आभा-मण्‍डल को देख मनुष्‍य की भौतिक व मानसिक स्थिति का सही ज्ञान प्राप्‍त कियका जा सकता है। आभा-मण्‍डल के रंगों को देख मानव-शरीर में निकट भविष्‍य में होने वाले विभिन्‍न रोगों का काफी समय पहले पता लगाया जा सकता है। किरलियन फोटोग्राफी द्वारा आज आभा-मण्‍डल का चित्र लेना सम्‍भव हो गया है। इस तकनीक द्वारा रोग के साथ-साथ मनुष्‍य की भौतिक बुराइयों का भी उपचार संभव है।

इस दशक की सर्वाधिक चर्चित पुस्‍तक का नाम है- लाल किताब। लाल किताब विशेष कर उन व्‍यक्तियों के लिए है जो कम-से-कम समय में, बिना कोई खर्च, बिना किसी पंडित से सलाह लिए स्‍वयं प्रयोगकर सकें। जहां यह पुस्‍तक लाल किताब की सम्‍पूर्ण जानकारी देती है वहीं मांगलिक दोष, रोग, ॠण-मुक्ति, संतान-सुख, भवन-सुख, आयु-निर्णय आदि पर विशेष उपाय लिखेगये हैं। ग्रह-दोष निवारण, ग्रहों से होने वाले रोग के लिए तुंरत प्रभावी उपाय लिखे गये हैं। इस पुस्‍तक को “सम्‍पूर्ण लाल किताब” कहा जा सकता है।

विश्‍व प्रसिद्ध ज्‍योतिषाचार्य, ख्‍यातिप्राप्‍त लोकप्रिय भविष्‍यवक्‍ता, सर्वाधिक ज्‍योतिष पुस्‍तकों के लेखक डॉ. राधाकृष्‍ण श्रीमाली द्वारा रचित यह पुस्‍तक आके लिए बहु उपयोगी सिद्ध होगी।जो पाठक वास्‍तव में सरल हिंदी भाषामें लाल किताब की खोज में थे उनके लिए यह पुस्‍तक अंति मखोज होगी।



नीलकंठ

संध्या और बेला...दोनों रायसाहब की बेटियां संध्या शांत स्वभाव वाली, जबकि बेला शोख, रंगीन मिजाज। बेला बंबई में पढ़कर वापस लौटती है तो पाती है कि संध्या और आनंद एक दूसरे से प्यार करते हैं। लेकिन बेला भी आनंद को चाहती है। एक दिन बेला को पता चलता है कि संध्या रायसाहब की गोद ली हुई पुत्री है तो वह क्रोधित हो यह सब संध्या को बता देती है। संध्या को जब अपनी मां का पता चलता है तो वह उनसे मिलने गांव पहुंचती है। जोकि गरीबों की बस्ती है और संध्या की मां उस गांव मे चाय खाना चलाती है। इस बीच धोखे से, अपने मोहजाल में फंसाकर बेला आनंद से विवाह कर बंबई चली जाती है। बंबई में बेला को फिल्‍मों में काम करने का मौका मिलता है लेकिन आनंद को यह सब पसंद नहीं और उसकी हालत पागलों जैसी हो जाती है। क्या आनंद का पागलपन दूर हुआ? क्या बेला एक फिल्म अभिनेत्री के रूप में सफल हो सकी? क्या संध्या के जीवन में कोई और पुरुष आया? इन सब जिज्ञासा भरे प्रश्नों का उत्तर आप इस उपन्यास में पा सकते हैं जो कि कलम के जादूगर गुलशन नंदा द्वारा लिखा गया है।.



Gujarat Sarkar Dwara Ayojit Talati Tatha Karkun Bharti Pariksha (Practice Workbook)

 



Tag cloud

Sign in