Books For You

Grow outward, Grow inward

સાંભળો, શરીર શું કહે છે ?
 
ડો મુકુર પેટ્રોલવાળા
 
શરીરના બાહ્ય દેખાતા અવયવો વિષે તો આપણે થોડું ઘણું જાણીએ છીએ। આ અતિસંકુલ માનવ શરીરમાં જે અનેક અવયવો પોતપોતાની રીતે સક્રિય રહે છે અને વિવિધ કારણોસર નિષ્ક્રિય બની શકે છે એ જાણવું અદના આદમી માટે પણ રસપ્રદ તો ખરુજ ,ઉપયોગી પણ અવશ્ય છે શારીરિક સંદર્ભમાં બહેતર જીવન વિતાવવામાં તે ઉપકારક નીવડે।  એ શરીરને શક્ય એટલી વિગતે જાણીએ, સમજીએ તેના કાર્યોથી પરિચિત થઈએ, તે મનુષ્ય દેહને સુપેરે જાળવવા માટે આવશ્યક છે
 
આ લેખમાળા ગુજરાતમિત્ર ની બુધવારની દર્પણ પૂર્તિમાં પ્રગટ થઇ હતી અને લોકપ્રિય નીવડી હતી।



ગર્ભસંસ્કાર- ડો.નીલેશ પટેલ
 
ગર્ભમાં બાળક જયારે આકાર લેતું હોય છે ત્યારે તેના કોમળ શરીર -મન -આત્માને જાગ્રત્તાપુર્વક શારીરિક-માનસિક-સંવેન્દાત્મક વિકાસ માટે પ્રેરવા એજ ગર્ભસંસ્કાર



Kya Kare Jab Maa Banana Chhahe (Hindi Translation Of What To Expect Before You Are Expecting)

जब आप गर्भवती हों तो आपको स्वस्थ, पौष्टिक व स्वादिष्ट भोजन की आवश्यकता होती है जो डिलीवरी के पहले व बाद में आवश्यक होती है। गर्भावस्था के दौरान घर, बाहर, ऑपिफस अथवा रेस्टोरेंट में आप कहीं भी हों लेकिन सही भोजन का चयन करें। यह पोषणयुक्त आहार मां व शिशु के लिए अति आवश्यक है। गर्भ के समय अपना सही वजन बनाए रखने के लक्ष्य का निर्धरण करें। यदि आपको आपरेशन से शिशु को जन्म देना पड़े तब आपका खानपान विशेष प्रकार का होना चाहिए। इन सभी बातों की संपूर्ण जानकारी इस पुस्तक में दी गयी है।

इनके अलावा अत्याधुनिक सूचनायें भी दी जा रही हैं, जैसे µलो कार्ब्स, शाकाहारी भोजन, कैपफीन की पर्याप्त मात्रा, पोषणयुक्त खुराक, सुरक्षित खाद्य पदार्थ और अधिक खाना आदि। गर्भावस्था के दौरान पेश है खास आपके लिए 175 प्रकार के स्वादिष्ट और पोषणयुक्त भोजन बनाने की रेसिपी। गर्भस्थ मां व शिशु के लिए ये रेसिपी बहुत लाभप्रद है। इसे बड़ी आसानी से आप अपने घर में बना सकती हैं और पूरे परिवार के साथ इसके जायके का मजा ले सकती हैं।



मालगुडी की कहानियां

Malgudi Days (Hindi Translation) - R.K.NARAYAN

अपने उपन्यास 'गाइड' के लिय साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित तथा पदमविभूषण द्वारा अलंकृत उपन्यासकार आर. के. नारायण विश्वस्तरीय रचनाकार गिने जाते है। उनके उपन्यास 'गाइड' पर बनी फिल्म ने उन्हें लोकप्रियता का एक और आयाम दिया, जिसे आज भी याद किया जाता है।

'मालगुडी' की कहानियां आर. के. नारायण की अदभुत रोचक कहानियां समेटे हुए पुस्तक है। अपने दक्षिण भारत के प्रिय क्षेत्र मैसूर और चेन्नई में घुमते हुए उन्होंने आधुनिकता और पारंपरिकता के बीच यहां-वहां ठहरते साधारण चरित्रों को देखा और उन्हें अपने असाधारण कथा-शिल्प के ज़रिये, अपने चरित्र बना लिया। 'मालगुडी के दिन' पर दूरदर्शन ने धारावाहिक बनाया जो दर्शक आज तक नहीं भूले हैं।

दशकों बाद भी 'मालगुडी के दिन' की कहानियां उतनी ही जीवंत और लोकप्रिय हैं, जितनी पहले कभी थी। यही उनकी खूबी है।



ईश्‍वर क्या है?

Hindi Translation of On God

ईश्‍वर क्या है?' जे॰ कृष्णामूर्ति की चर्चित और लोकप्रिय पुस्तकों में से एक है। यह पुस्तक उस पावन परात्मा के लिए हमारी खोज को केन्द्र में रखती है।

"कभी आप सोचते हैं कि जीवन यांत्रिक है तथा कठिन अवसरों पर, जब दुख और असमंजस घेर लेते हैं तो आप आस्था की ओर लौट आते हैं, मार्गदर्शन और सहायता के लिए किसी परम सत्ता की ओर ताकने लगते हैं।"

कृष्णामूर्ति उस 'रहस्यमय परम सत्ता' को जानकारी के क्षेत्र में लाने के प्रयासों पर प्रशनचिन्ह लगाते हैं। उनके नाकाफीपन का व्यापक विवेचन करते हैं तथा यह स्पष्ट करते हैं कि जब हम अपनी वैचारिकता के माध्यम से खोजना बंद कर दें, केवल तभी हम यथार्थ, सत्य अथवा आनंद की अनुभूति कर पाएंगे।



महात्मा का इंतज़ार - आर. के. नारायण


महात्मा गांधी और उनके राष्ट्रीय आंदोलन की कहानी के साथ यह दो युवा दिलों की प्रेम कहानी है। दोनों को अपनी-अपनी मंज़िल की तलाश है। दोनों प्रेमी अपनी चाहत को तब तक दबाए रखते हैं जब तक स्वतंत्रता के लिए चलने वाला संघर्ष पूरा नहीं हो जाता और उन्हें एक-दूसरे को अपनाने के लिए महात्मा गांधी की स्वीकृति नहीं मिल जाती। वर्षों चले इस इंतज़ार में उन्हें किन-किन मुसीबतों और ज़ोखिमों से होकर गुज़रना पड़ता है, इसका बेहद रोमांचक वर्णन करता है यह उपन्यास।


आर.के. नारायण की अनोखी शैली में लिखा यह बेहद रोचक उपन्यास उनके बाकी उपन्यासों से हटकर है।


महात्मा का इंतजार, भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की पृष्ठभूमि में लिखी एक प्रेमकथा है। एक ओर पूरा देश अंग्रेज़ों को भारत से खदेड़ने के लिए कमर कसे है, तो दूसरी ओर युवा क्रांतिकारियों, श्रीराम और भारती के बीच प्रेम परवान चढ़ रहा है। दोनों एक-दूसरे से शिद्दत से प्यार करते हैं, लेकिन उसे तब तक विवाह का रूप नहीं देना चाहते जब तक देश को आज़ाद करवाने का उनका सपना पूरा नहीं हो जाता। महात्मा गांधी उनके आदर्श हैं और अपने रिश्ते को वे उनकी रज़ामंदी से ही आगे बढ़ाना चाहते हैं। आर. के. नारायण के इस उपन्यास में आज़ादी के संघर्ष और श्रीराम-भारती की इसी प्रेमकहानी को बहुत रोचक और मार्मिक तरीके से गूंथा गया है।
आर. के. नारायण भारत के पहले ऐसे लेखक थे जिनके अंग्रेज़ी लेखन को विश्वभर में प्रसिद्धि मिली। काल्पनिक शहर मालगुड़ी के इर्द-गिर्द बुनी उनकी कहानियां अमर हैं। 10 अक्टूबर 1906 को जन्मे नारायण ने पंद्रह उपन्यास, पाँच लघु कथा-संग्रह, यात्रा-वृतांत आदि लिखे हैं। 1960 में उन्हें उनके उपन्यास गाइड के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाज़ा गया। मालगुडी की कहानियां, स्वामी और उसके दोस्त, डार्क रूम, मालगुडी का आदमखोर और इंग्लिश टीचर उनकी अन्य जानी-मानी रचनाएँ हैं। 13 मई, 2001 को नारायण की मृत्यु हो गई, लेकिन उनकी रचनाएं पाठकों के दिलों में आज भी ज़िंदा हैं।



Mudra Vigyan

This Book Deals With Mudra Vigyan, The Science Of Finger Postures Which Occupies A Very Important And Prominent Position Among The Ancient Indian Sciences. The Science Of Mudra Vigyan Is Deeply Mysterious And Amazing. In This Book, The Author Has Mostly Deal With Tatva Yoga And Those Which Only Deal With The Amazing Mudras And The Yogic Subjects Which Are Specially Related To Mantra Sloka Vidhayan And Also The Names Of Some Necessary Granths.

With The Help Of Mudra Vigyan, It Is Not Difficult To Harmonise The Undercurrents Of The Mind. Through, This Science, It Is Also Not Difficult To Achieve Concentration Of Mind. Mudra Vigyan Is The Most Important Aspect Of The Meditation Of The Supreme Self. Here, Yoga Mudras Are Being Presented, As Miraculous Remedies Which Affect Some Illness Like An Injection. Ear Ache Can Be Cured In Just A Few Minutes By Shunya Mudra. Similarly, Many Urinary Infections, Will Be Cured By The Experiment Of Apan Mudra In A Few Minutes Only. Mudra Vigyan Is Built Upon The Knowledge Of The Divine And Is Manifest In The Five Fingers Of The Human Hand. If Imports A Lot Of Knowledge About The Human Body. Mudras Not Only Effect Our Own Self But Also Influence The Feelings Of Those Who May Be Watching Us. In This Book, The Author Has Discussed About Some Very Useful And Effective Mudras Detail Which Are Very Useful In Curing Diseases. Besides, Some Basics About Mudra Vigyan Such As Secrets, Need And Importance And Advantage Of It. Then, Some Specific Mudras Of Worship Are Also Discussed.

The Language Used Is Simple And Understandable. Each Description Of The Mudra Is Accompanied With Relevant Illustration Which Makes The Matter More Easy To Comprehend. The Book Is Very Informative And Will Be Very Useful To The Readers Who Can Immensely Benefit By Practising This Science For Their Own Betterment, Peace And Prosperity.



Kaun Hai Guru

"आज आदमी की अपनी नासमझी के कारण न केवल भगवान शब्द झूठा होता जा रहा है बल्कि गुरु शब्द भी एक ढोंग का नाम बनकर रह गया है। सच तो यह है कि भगवान और गुरु की पहचान, परिभाषा तथा अंतर व महत्व जिस ढंग से समझा व जाना जा सकता है वह माध्यम ही कमजोर हो गया है, यानी भक्त और शिष्य का। क्योंकि भगवान को पहचानने के लिए सच्चा भक्त चाहिए और गुरु को पहचानने के लिए सच्चा शिष्य। न तो हम सच्चे भक्त बने हैं न ही असली शिष्य। हम सरलता से दोनों पर उंगली तो उठा देते हैं पर क्या कभी हम यह सोचते हैं कि क्या हम सच्चे भक्त या असली शिष्य हैं?

भगवान का अनुभव या उसकी पहचान गुरु द्वारा ही संभव है। गुरु के द्वारा ही परमात्मा का पता चलता है व उसकी झलक मिलती है। यही कारण है कि मैंने इस पुस्तक को 'कौन है गुरु? नाम दिया है। गुरु को परिभाषित करती इस पुस्तक में मात्र गुरु-शिष्य की भूरी-भूरी बातें ही नहीं बल्कि कड़वी सच्चाइयां भी हैं जो तथाकथित साधु-संतों एवं गुरु-बाबाओं का कोरा चिट्ठा भी खोलती हैं।"



Tag cloud

Sign in